Darood sharif ki fazilat || दुरूदे पाक  पढ़ने की फज़ीलतें || by gulame ashraf || islamic whatsapp status 2019

Published on May 25, 2019

*(📚फ़तावा रज़विया 📚)*

_*【ﺑِﺴْــــــــــــــﻢِﷲِﺍﻟـــﺮَّﺣْﻤَﻦِﺍلْـــرﺣـــــــــــِﻴﻢ】*_

_*【اَلصَّلٰوةُ وَالسلَامُ عَلَي٘كَ يَارَسُوٌلَ الـلّٰهِ ﷺ】*_
____________________________________ _*【दुरूदे पाक पढ़ने की फज़ीलतें 📿】*_

==============================

*_जो कोई एक बार दुरूदे पाक पढ़ता है तो उसके दुरूद से एक परिंदा पैदा होता है जिसके 70000 बाज़ू हैं हर बाज़ू में 70000 पर हैं हर पर में 70000 चेहरे हैं हर चेहरे में 70000 मुहं हैं हर मुहं में 70000 ज़बान है और वो हर ज़बान से 70000 बोलियों में रब की तस्बीह पढ़ता है और इन तमाम तस्बीहों का सवाब उस पढ़ने वाले के नामये आमाल में लिखा जाता है_*

*📚 नूर से ज़हूर तक, सफ़हा 15*

_सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम_

*_जो नबी ﷺ पर एक बार दुरूद शरीफ पढ़े तो मौला तआला उस पर 10 रहमते नाज़िल फरमायेगा उसके 10 गुनाह मिटा देगा और उसके 10 दर्जे बुलन्द करेगा और दूसरी रिवायत में है कि मौला और उसके फरिश्ते उस पर 70 मर्तबा दुरूद पढ़ते हैं_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 3, सफ़्हा 76*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_जो रोज़ाना 100 बार नबी करीम ﷺ पर दुरूदे पाक पढ़े और शहादत की तमन्ना रखे तो वह शहीद मरेगा_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 4, सफ़हा 174*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_जो कोई दिन भर में 1000 बार दुरूद शरीफ पढ़ेगा तो वो उस वक़्त तक नहीं मरेगा जब तक की अपनी जगह जन्नत में ना देख ले_*

*📚 खज़ीनये दुरूद शरीफ, सफ़हा 14*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_जब भी जहां भी और जितनी बार भी नबी करीम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का नाम मुबारक आये तो हर बार आप पर दुरूदे पाक पढ़ना बाज़ उल्मा के नज़दीक वाजिब है और ऐसा ना करने वालों पर सख्त वईदें आई है_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 1, सफ़हा 21*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_हुज़ूरﷺ फ़रमाते हैं कि जिसने रमज़ान पाया और अपनी बख़्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ जिसने अपने वालिदैन को पाया और उनकी ख़िदमत ना करके अपनी बख़्शिश ना करा सका वो हलाक हुआ और जिसके पास मेरा ज़िक्र हुआ और उसने मुझ पर दुरूद ना पढ़ा वो हलाक हुआ_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 5, सफ़हा 97*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_बाज़ लोग हिंदी में नामे अक़्दस के आगे बजाये सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम लिखने के सिर्फ सल्ल0 लिखते हैं या अंग्रेजी में s.a.w और उर्दू में ص ل ع م लिख देते हैं ऐसा करना सख्त नाजायज़ो हराम है_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 1, सफ़हा 21*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_हुज़ूरﷺ फ़रमाते हैं कि जिसने मेरे नाम के साथ दुरूदे पाक लिखा तो जब तक वो वहां लिखा रहेगा फरिश्ते उसके लिए मग़फिरत की दुआ करते रहेंगे और उसका सवाब जारी रहेगा_*

*📚 कुर्बे मुस्तफा, सफ़हा 79-80*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_जिसने दुआ के अव्वल और आखिर में दुरूद शरीफ पढ़ा तो उसकी दुआ रद्द नहीं की जाती_*

*📚 क़ुर्बे मुस्तफा, सफ़हा 75*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_

*_जिसने दुरूदे पाक को ही अपना वज़ीफा बना लिया तो ये उसकी दुनिया और आख़िरत के लिए तन्हा काफी है और उसको दूसरे किसी वज़ीफे की जरूरत नहीं है_*

*📚 बहारे शरीअत, हिस्सा 3, सफ़्हा 77*

_सल्लल्लाहु तआला अलैही वसल्लम_
👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

*हदीसे पाक में आता है कि इल्म फैलाने वाले के बराबर कोई आदमी सदक़ा नहीं कर सकता*

*📚 क़ुर्बे मुस्तफा, सफ़हा 100*
🌹💐💞🌹💐💞🌹💐💞🌹💐

Whatsapp islamic status Ramzan special 2019 || Best islamic status 2019

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE
Enjoyed this video?
"No Thanks. Please Close This Box!"